Website Ping Kya Hai [ Pros & Cons Full Guide In Hindi ] - BlogTipsHub - तकनीकी जानकारी हिंदी में ।

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

Friday, July 20, 2018

Website Ping Kya Hai [ Pros & Cons Full Guide In Hindi ]

Hello friends, Website pinging kya hai ?और वेबसाइट को पिंगिंग करने के क्या बेनिफिट्स आज हम इशी बारे में यहा बात करने वाले है, अगर आप के पास एक वेबसाइट या ब्लॉग है तो आप ने बक्कलिंक का नामे ज़रूर सुना है जो की एक बहुत ही क्रिटिकल वे होता है वेबसाइट को रंक करवाने के लिए. लेकिन बहुत से नेवबीएस ऐसे भी है जो वेबसाइट पिंगिंग के बारे में नही जानते है की आख़िर वेबसाइट पिंग करना क्या होता है और इशके क्या फयडे होते है और क्या नुकसान है. सो फ्रेंड्स आज हम इशी के बारे में बात करते है.
website ping kya hai


    What is Website Ping क्या है ?

    अगर सॉफ और सरल वर्ड्स में समझा जाए तो वेबसाइट पिंग बक्कलिंक बनाने का ही दूसरा टाइप है लेकिन वेबसाइट पिंगिंग और बक्कलिंक्स में काफ़ी डिफरेन्स है सो हम इश्को ये नही कह सकते है की बक्कलिंक बनाना ही वेबसाइट पिंग होता है.

    अगर बक्कलिंक्स की बात करे तो वो 2 तरह के होते है एक होता है डोफोल्लोव बक्कलिंक और एक होता नोफोल्लोव, ठीक उशी तरह से वेबसाइट या ब्लॉग पिंगिंग है सो आप कभी ये ना समझे के बक्कलिंक ही पिंगिंग है. पिंग का मतलब होता है जोड़ना यानिहुम ह्मारे ब्लॉग को किसी दूसरे ब्लॉग से लिंक करते है डब्ल्यू होता है जिस में अतिकले सबमिशन भी आता है

    Benefits Of Website Pinging/ क्या फायदे है ?

    आप के पास टॅलेंट है और आपने टॅलेंट को किसी के साथ शेर ही न्ही किया तो लोगो को आप के टॅलेंट के बारे में कैसे पता चलेगा..? आप ने सिर्फ़ अपने कुच्छ फ्रेंड्स को ब्टाया और उनसे आप को कोई खास बेनेफिट न्ही होगा. ठीक इशी तरह से वेबसाइट पिंगिंग है.. गूगले, बिंग, याहू पर अपनी वेबसाइट को शो करने के लिए हम सीतेमप तो सब्मिट कर देते है लेकिन इतना ही काफ़ी न्ही है.

    ह्यूम अपने वेबसाइट्स को बहुत से वेबसाइट्स के साथ कनेक्ट करना होगा या यूँ काहु के जोड़ना होगा तभी आप की वेबसाइट पर बेहतर ट्रॅफिक आएगा ये सेम उशी तरह से जैसा मैने अभी आ को उपर एग्ज़ॅंपल के थ्रू ब्टाया है. सो अपने ब्लॉग का नेटवर्क ब्धाओ नेत्ओोर्त अपने आप बढ़ जाएगी और इश् में हेल्प करने के लिए पिंग साइट्स ह्यूम हेल्प करती है.

    Instant Indexing In Major Search Engine For New Posts

    वैसे तो ह्यूम अपने आर्टिकल्स को इन्स्टेंट इंडेक्स करवाने के लिए सर्च एंजिन वेबमास्टेर्स को Fetchका ऑप्षन देते है लेकिन उष से ज़्यादा बेनिफीशियल ऑटो इंडेक्सिंग होता है. सो अपने वेबसाइट को इश् तरह से अदर वेबसाइट्स पर पिंग करे के सर्च एंजिन को आप के पेजस/पोस्ट्स ज़्यादा पसंद आए और सर्च रोबॉट्स को आप की वेबसाइट्स फाइंड आउट करने में कही भी प्राब्लम ना हो.

    सो वेबसाइट को हाइ दा, पा वाली पिंगिंग साइट्स पर सब्मिट करे और अपनेई वेबसाइट की सर्च एंजिन रॅंकिंग इंप्रूव करे और न्यू आर्टिकल्स  फास्ट इंडेक्स करवाए.

    You'll Get Backlinks

    Pinging का सब से बड़ा बेनेफिट ये है के आप को अपनी साइट के लिए फ्री डोफोल्लोव बक्कलिंक मिलता है और बक्कलिंक्स की इंपॉर्टेन्स तो आप बहुत अच्छे से जानते है. लेकिन काई बार ऐसा होता है के हम लो क्वालिटी यानी लोवर दा,पा वाली पिंगिंग साइट्स पर अपनी साइट को सब्मिट या पिंग कर देते है जिस से ह्यूम कोई फयडा न्ही होता है.

    पिंगिंग करना बक्कलिंक्स बनाने का सब से बेस्ट वे है लेकिन आप इश् बात को ज़रूर ध्यान में रखे की कभी लोवर डोमेन अतॉरिटी और पेज अतॉरिटी वाली पिंग साइट्स पर अपने वेबसाइट या ब्लॉग को पिंग ना करे क्यू के इश् से आप को बेनेफिट होने के ब्जाय लॉस ज़्यादा होगा सो इश् बात को हुमेसा ध्यान में रखे. 

    Get Huge Amount Of Traffic on Blog From Search Engines

    जैसा की मैने अभी उपर ब्टाया है पिंग साइट्स मोस्ट्ली ह्यूम डोफोल्लोव बक्कलिंक्स प्रवाइड करती है जिसका सिंपल सा मीनिंग ये के जब कोई विज़िटर उन पिंग साइट्स पर विज़िट करेगा और ह्मारा आर्टिकल देखेगा तो डोफोल्लोव बक्कलिंक के थ्रू वो ह्मारे ब्लॉग पर ज़रूर आएगा और इश् से ह्मारे ब्लॉग का ट्रॅफिक भी बढ़ेगा.

    पिंग साइट्स हमरी वेबसाइट को सर्च एंजिन में रंक करने के लिए स्ट्रॉंग बनाती है और बक्कलिंक स्ट्रॉंग होने से वेबसाइट की शेऱPस ऑटोमॅटिक ही बढ़ेगी सो इशके दोनो तरह से बेनेफिट ही है.

    Website Pinging Cons

    वेबसाइट की सर्च एंजिन रॅंकिंग के लिए पिंगिंग कितनी ज़रूरी है अभी तक की पोस्ट पढ़ने के बाद आप इतना तो ज़रूर समझ गये होंगे लेकिन साथ ही आप को कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिए न्ही तो पिंगिंग से बेनेफिट होने के ब्जाय लॉस हो जाएगा.

    • Website/Blog ko humesa high DA,PA waali ping sites par hi ping kare.
    • Outdated Sites par pinging naa kare to better hoga.
    • Trending Ping site ko pahchaane aur ushke baad website ko ping kare.
    • Aise ping sites ko chune jin par har din jyada visitors haate ho jis se aap ko SERPs ke sath sath website traffic mein fayda mile.
    वेबसाइट पिंग को अगर अच्छे से जान कर किया जाए तो ये हमरी वेबसाइट और ब्लॉग के लिए बेनिफीशियल है सो फ्रेंड्स आप को वेबसाइट पिंग के बारे में ये पोस्ट कैसा लगा ह्यूम ज़रूर ब्ताए और पोस्ट को अपने ब्लॉगगेर फ्रेंड्स के साथ शेर ज़रूर करे.

    No comments:

    Post a Comment

    We will remove spam comments instantly. Do not try to add any link into comments.

    Post Bottom Ad